Tuesday, 6 September 2022

इसरो ने इन्फ्लेटेबल एरोडायनामिक डिसेलेरेटर का सफलतापूर्वक परीक्षण किया

इसरो ने इन्फ्लेटेबल एरोडायनामिक डिसेलेरेटर का सफलतापूर्वक परीक्षण किया



हाल ही में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने इन्फ्लेटेबल एरोडायनामिक डिसेलेरेटर (IAD) तकनीक का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है जो स्पेंट स्टेज रिकवरी में आने वाली लागत को प्रभावी रूप से कम कर सकता है और अन्य ग्रहों पर सुरक्षित रूप से पेलोड लैंडिग में सहायता कर सकता है। इस आईएडी को विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर (वीएसएससी) द्वारा डिजाइन और डेवलप किया गया है। थुम्बा इक्वेटोरियल रॉकेट लॉन्चिंग स्टेशन (टीईआरएलएस) से रोहिणी साउंडिंग रॉकेट के साथ इसका सफल परीक्षण किया गया। 


Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams



इन्फ्लेटेबल एरोडायनामिक डिसेलेरेटर (IAD) वातावरण के माध्यम से नीचे गिरने वाली वस्तु की गति को धीमा करने का कार्य करता है। IAD को शुरू में मोड़कर रॉकेट के ‘पेलोड बे’ के अंदर रखा गया। लगभग 84 किमी. की ऊंँचाई पर IAD में गैस भरी गई और यह एक साउंडिंग रॉकेट के पेलोड भाग के साथ वायुमंडल के माध्यम से नीचे उतरा। IAD ने वायुगतिकीय ड्रैग के माध्यम से पेलोड के वेग को व्यवस्थित रूप से कम कर दिया है और अनुमानित प्रक्षेपवक्र का पालन किया है।





Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search