Wednesday, 22 June 2022

गुजरात के पांच गांवों में गठित भारत की पहली 'बालिका पंचायत'

गुजरात के पांच गांवों में गठित भारत की पहली 'बालिका पंचायत'

 


गुजरात के कच्छ जिले के पांच गांवों में देश की पहली 'बालिका पंचायत' शुरू की गई है। इस पहल का उद्देश्य लड़कियों के सामाजिक और राजनीतिक विकास को बढ़ावा देना और राजनीति में उनकी सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करना है। कच्छ जिले के कुनारिया, मस्का, मोटागुआ और वडसर गांवों में पंचायत शुरू की गई है. यह पहल गुजरात सरकार के महिला एवं बाल विकास कल्याण विभाग द्वारा 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' अभियान के तहत की गई है। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भी देशभर में बालिका पंचायत शुरू करने की योजना बना रहा है।


डाउनलोड करें मई 2022 के महत्वपूर्ण करेंट अफेयर्स प्रश्नोत्तर की PDF, Download Free PDF in Hindi


हिन्दू रिव्यू मई 2022, डाउनलोड करें मंथली करेंट अफेयर PDF (Download Hindu Monthly Current Affair PDF in Hindi)



"बालिका पंचायत" के बारे में:


"बालिका पंचायत" का प्रबंधन 11-21 आयु वर्ग के लोगों द्वारा किया जाता है और इसका मुख्य उद्देश्य बालिकाओं के सामाजिक और राजनीतिक विकास को बढ़ावा देना और समाज से बाल विवाह और दहेज प्रथा जैसी कुरीतियों को दूर करना है। पंचायत का मुख्य उद्देश्य है कि लड़कियां राजनीति में आगे बढ़ें। बालिका पंचायत में सदस्य को ग्राम पंचायत की तरह ही मनोनीत किया जाता है।


Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams


Find More National News Here

Union Minister Hardeep Singh Puri launches NIPUN for Promoting Upskilling of Nirman workers_90.1

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search