Saturday, 25 August 2018

INS विक्रमादित्य के वायु विंग को रूस से अपग्रेड किया जाएगा

INS विक्रमादित्य के वायु विंग को रूस से अपग्रेड किया जाएगा


पहली बार, भारत के एकमात्र विमान वाहक INS विक्रमादित्य जहाज के वायु संचालन को बढ़ावा देने के लिए समुद्री हाइड्रोलिक प्रणाली के साथ  जोड़ा जाएगा.हाइड्रोलिक तकनीक बिजली मशीनों के लिए द्रव दबाव का उपयोग करती है.

रूस के रोस्टेक स्टेट कॉरपोरेशन की एक सहायक, टेक्नोडाइनिका मई 2019 तक भारतीय नौसेना के जहाज में प्रणाली स्थापित करेगी. GS-1MF हाइड्रोलिक प्रणाली हेलीकॉप्टरों में उपयोग की जाती है, जबकि GS-3 का उपयोग विमानों में किया जाता है.
स्रोत- NDTV न्यूज़

 Indian Bank PO परीक्षा 2018 के लिए उपरोक्त समाचार से परीक्षा उपयोगी तथ्य-
  • INS विक्रमादित्य 284 मीटर लंबा और 60 मीटर ऊंचा है जो 20 मंजिला इमारत के समान ऊंचाई है. 
  • जहाज का वजन 40,000 टन है और भारतीय नौसेना में सबसे बड़ा और सबसे भारी जहाज है. 

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search