Thursday, 18 May 2017

भारतीय किशोर ने नासा के लिए दुनिया का सबसे छोटा उपग्रह विकसित किया

भारतीय किशोर ने नासा के लिए दुनिया का सबसे छोटा उपग्रह विकसित किया


अमेरिकी 'नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) विश्व का सबसे छोटे उपग्रह 'KalamSat' को लांच करेगा, ऐसा पहली बार होगा जब एक भारतीय छात्र प्रयोग का संचालन करेगा.

तमिलनाडु के पल्लापट्टी शहर से 18 वर्षीय युवक रिफाथ शारूक द्वारा विकसित, कलामसैट का वजन केवल 64 ग्राम है. इसका नाम भारत के परमाणु वैज्ञानिक और पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर 'कलामसेट' रखा गया है और यह वॉलप्स द्वीप में नासा द्वारा लॉन्च किया जाएगा.

शारूक की परियोजना, जो पहले 3 डी प्रिंटिंग के माध्यम से निर्मित है, को एक प्रतियोगिता के माध्यम से चुना गया,‘Cubes in Space', संयुक्त रूप से नासा और 'आई डूडल लर्निंग' द्वारा प्रायोजित है. इस परियोजना का लक्ष्य अंतरिक्ष में नई तकनीक का प्रदर्शन करना है. उनका प्रयोग 'अंतरिक्ष किडज इंडिया' नामक संगठन द्वारा वित्त पोषित किया गया था.

    एसबीआई पीओ मेन परीक्षा के लिए उपरोक्त समाचार से महत्वपूर्ण तथ्य-
    • संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति ड्वाइट डी. आयजनहोवर ने 1 9 58 में राष्ट्रीय एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन की स्थापना की
    • नासा के कार्यवाहक प्रशासक रॉबर्ट एम लाइटफुट जूनियर हैं.


    स्त्रोत- बिजनेस स्टैण्डर्ड

    Post a Comment

    Whatsapp Button works on Mobile Device only

    Start typing and press Enter to search